Skip to content

अंतर्राष्ट्रीय और वैश्विक अधिकारों के लिए मिशन (शांति और भागीदारी का मिशन) सुनिश्चितकरने के लिए हमारा नज़रिया 

वैश्विक संचार, वैश्विक अर्थव्यवस्था और सीमाहीन विश्वबाजार के वर्तमान युग में घरेलू संविधान द्वारा जिस घरेलू नागरिकों की सुरक्षा औरसंरक्षा के अधिकार की गारंटी दी गयी है, उसकी रक्षा मात्र देशों की घरेलू सरकारद्वारा नहीं की जा सकती है। यूक्रेन, इजराइल, गाजा और कई अन्यदेशों में घटित/घट रही युद्ध आपदाएँ हाल के ज्वलंत उदाहरण हैं। इन देशों केसंविधान में भी घरेलू नागरिकों की सुरक्षा और संरक्षा के अधिकार की गारंटी दी गयीहै. ऐसे युद्ध की पुनरावृत्ति भविष्य में बार-बार होती रहेगी। क्योकि ऐसे युद्धोंको तत्काल रोकने एवं रोकने की प्रभावी व्यवस्था का अभाव है. इसलिए विश्व शांतिबनाए रखने के लिए प्रभावी संस्था/सरकारों की आवश्यकता है। मिशन फॉर ग्लोबल चेंज नेराज्य मशीनरी की एक ऐसी शक्ति संरचना विकसित की है जो इस उद्देश्य को प्राप्त करनेमें सक्षम हो सकती है।

संपर्क करें

प्रश्न/सुझावभेजने के लिए ईमेल के माध्यम से हमसे संपर्क करें।ध्यान रखें कि केवल प्रासंगिक ईमेल का उत्तर दिया जाएगा. आप शीध्र उत्तरचाहते हैं तोहमारे कार्यालय को फ़ोन- 9811305324, 9818433422 पर फ़ोन भी कर सकते है. 

अंतर्राष्ट्रीयअधिकार

अंतर्राष्ट्रीयअधिकार नागरिकों के वे अधिकार हैं जिनकी रक्षा न्यूनतम दो राष्ट्र राज्यों द्वारासामूहिक प्रयत्न से  की जा सकती है।प्रस्तावित अंतर्राष्ट्रीय अधिकारों की सूचीविश्व परिवर्तन मिशन, एमजीसी द्वारा 192 देशों के प्रमुखों के समक्ष और संयुक्त राष्ट्र के समक्ष अनुमोदनके लिए प्रत्यावेदन के माध्यम से प्रस्तुत किया गया है।

वैश्विक अधिकार

वैश्विक अधिकारनागरिकों के वे अधिकार हैं जिनकी रक्षा विश्व के सभी राष्ट्रों के सामूहिक सहयोगसे ही संभव हो सकती है। प्रस्तावित वैश्विक अधिकारोंकी सूची विश्व परिवर्तन मिशन, एमजीसी द्वारा 192 देशों के प्रमुखों के समक्ष और संयुक्तराष्ट्र के समक्ष अनुमोदन के लिए प्रत्यावेदन के माध्यम से प्रस्तुत किया गया है।

संविधान प्रारूपसमिति के सदस्य के रूप में शामिल हों

विश्व परिवर्तनमिशन (मिशन फॉर ग्लोबल चेंज, एमजीसी) दक्षिण एशियाई देशों के संघ के संविधान का मसौदातैयार करने और विश्व के सभी देशों के एक संयुक्त राष्ट्रीय सरकार (यूएनजी) / एकऐसी सक्षम वैश्विक एजेंसी के गठन के लिए भी काम कर रहा है; जो दुनिया के सभी राष्ट्रों के नागरिकोंको वैश्विक अधिकार प्रदान करने और उनकी रक्षा करने का अधिकार के लिए अधिकृत हो औरसक्षम हो। संविधान मसौदा सभा के सदस्य के रूप में शामिल होने के नियमों और शर्तों के लिए, कृपया हमसे संपर्क करें।

अंतरिम संसद के सदस्यके रूप में जुड़ें दक्षिण एशियाई देशों के और दुनिया के सभी देशों के संघ की अंतरिम संसद के सदस्य के रूप में शामिल हों

विश्व परिवर्तनमिशन (मिशन फॉर ग्लोबल चेंज, एमजीसी) ने काठमांडू में आयोजित वर्ल्ड सोशल फोरम केअंतर्राष्ट्रीय सम्मेलन में कुछ शर्तों पर दक्षिण एशियाई देशों और पूरी दुनिया केसंघ की अंतरिम संसद बनाने के लिए एक प्रस्ताव पारित किया है। दुनिया के सभी देशोंके नागरिकों को वैश्विक अधिकार प्रदान करने और उन अधिकारों की रक्षा करने के लिए विश्वपरिवर्तन मिशन दक्षिण एशियाई देशों के संघ की अंतरिम संसद का गठन करने और एकवैश्विक एजेंसी/संयुक्त राष्ट्रीय सरकार (यूएनजी) की अंतरिम संसद का गठन करने केलिए भी काम कर रही है। नियमों और शर्तों के आधार पर अंतरिम संसद के सदस्य के रूपमें शामिल होने के लिए संपर्क करें।

24 अक्टूबर को अंतरिम संसद और सरकार की घोषणा समारोह

संयुक्त राष्ट्र संघ वर्तमान में दो देशों केबीच होने वाले युद्धों को रोकने में विफल साबित हो रहा है। यदि भारत और चीन के बीचयुद्ध शुरू हो जाए तो हमारे आपके मकानों के ऊपर भी मिसाइलों की बरसात शुरू होजएगी। संयुक्त राष्ट्र कुछ नहीं कर पाएगा। ‌तब हमारे आपके हाथ से भी सबकुछ निकल चुका होगा। इसलिए समय रहते शांति का प्रबंध करना चाहिए। शांति का काव्यवस्थागत प्रबंध तभी संभव है, जब विश्व के सभी देशों की एक संयुक्त राष्ट्रीयसरकार और संसद बने। जब तक दुनिया भर की सरकारें इस काम के लिए संधि नहीं करतीं तब तक के लिए विश्व परिवर्तन मिशन (मिशन फॉर ग्लोबल चेंज, एमजीसी) अंतरिम संसद और अंतरिम सरकारका गठन करने जा रही है.  विश्व शांति सुनिश्चित करने के लिए श्रीविश्वात्मा उर्फ भरत गांधी विश्व सरकार और विश्व संसद बनने के लिए दुनिया भर केसभी देशों के राष्ट्रपतियों को कई बार लिख चुके हैं। अभी-अभी काठमांडू में 92 देशों के सम्मेलनमें विश्व परिवर्तन मिशन ने विश्व संसद और विश्व सरकार का और दक्षिण एशियाई संसदऔर दक्षिण एशियाई सरकार बनाने का प्रस्ताव पारित करवाया।  यह प्रस्ताव अप्रैल 2024 में 192 देश केराष्ट्रपतियों को भेजा गया। प्रस्ताव में कहा गया है कि अगर 6 महीने के अंदरअंतर्राष्ट्रीय संधि करके विश्वसरकार का गठन दुनिया भर के देशों के राष्ट्रीय अध्यक्ष  नहीं करते हैं तोसंयुक्त राष्ट्र दिवस 24 अक्टूबर 2024 को भारत में विश्वसरकार की अंतरिम संसद और अंतरिम सरकार बना दिया जाएगा। और इसी तारीख को दक्षिणएशियाई देशों के यूनियन के अंतरिम संसद और अंतरिम सरकार का गठन भी कर दिया जाएगा। इस ऐतिहासिक घोषणा को आगामी 24 अक्टूबर को दिल्लीमें करने का फैसला किया गया है।  अंतरिम संसद और अंतरिम सरकार के लिए प्रस्तावित"घोषणा समारोह" की विस्तृत रूपरेखा तैयार करने के लिए कुछ मूर्धन्यलोगों की एक चार दिवसीय संगोष्ठी/कार्यशाला लखनऊ स्थित विश्व परिवर्तन मिशन केसभागार में 20 से 23 जून के बीच हो रहीहै। आप निमंत्रण पत्र को डाउनलोड भी करसकते हैं।  संगोष्ठी / कार्यशालानिमंत्रण पत्रविषय-*24 अक्टूबर को दिल्लीमें दक्षिण एशियाई देशों और दुनिया के सभी देशों की अंतरिम संसद और अंतरिम सरकारके गठन की घोषणा की विस्तृत रूपरेखा तैयार करने के लिए 4 दिवसीयसेमिनार/कार्यशाला*तिथि- 20-23  जून 2024 स्थान- विश्व परिवर्तन मिशन सभागार, विश्वात्माहाउस, 1067/6 जानकीपुरम विस्तार, लखनऊ संभावित प्रतिभागी (कृपया लिंक क्लिक करें)*सेमिनार/कार्यशाला का एजेंडा* (कृपया लिंक क्लिक करें)